चिहुंकना फिर फिर से…

चिहुंकना फिर फिर से,
और सिसकना सारी सारी रात फिर…
ज़रा सा खटका लगा नहीं कि ढह गया घरौंदा जैसे
कभी कभी ही होता है जब शाम नम नहीं होती.

मज़ा तो ये है कि मजाल है कोई आए!
गमक यही है, और शायद ये चिहुंक भी यही,
और जब कभी मज़ा नहीं तो उसकी आरज़ू ही सही!

चिहुंक- चिहुंक के तार तार हुआ जाता हूं,
सिसक- सिसक के भी बेज़ार हुआ जाता हूं,
कसक पुरानी है- चिहुंक से भी, सिसक से भी!
(हां, जिए हैं कई साल भी; हां, किया है थोड़ा कुछ भी)
(…………………………………………………..)
इन ब्रैकेटों के मुग़ालतों की दरकार हुआ जाता हूं!

Advertisements
Published in: on October 3, 2008 at 12:55 am  Comments (2)  
Tags: , ,

The URI to TrackBack this entry is: https://satyavrat.wordpress.com/2008/10/03/chihunkana-fir-fir-se/trackback/

RSS feed for comments on this post.

2 CommentsLeave a comment

  1. Heh…funny, intentionally so.

  2. It was an attempt to write one totally impromptu kind of poetry. May be it was too quick to reflect the satire.


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: